गुरुवार, 5 जुलाई 2012

21-22 जुलाई 2012 को सेवाग्राम वर्धा में अत्यंत आवश्यक बैठक

आगामी २१-२२ जुलाई को सेवाग्राम वर्धा में अत्यंत आवश्यक बैठक बुलाई गई है जिसमे निम्न विषयो पर चर्चा होकर अंतिम प्रारूप तैयार होगा.

1) राजीव भाई की स्मृति मे परम पूज्य स्वामी रामदेवजी महाराज द्वारा घोषित (३० नवम्बर – स्वदेशी दिवस) के अवसर पर सेवाग्राम, वर्धा मे आगामी
स्वदेशी कुम्भ (30 नवंबर से 4 दिसम्बर तक ) के आयोजन को अंतिम प्रारूप देना,
जिसमे आयोजन से सम्बंधित विभिन्न समितियो को अंतिम स्वीकृति प्रदान करना और पूरे आयोजन की रूपरेखा तैयार करना
2) राजीव भाई के अधूरे सपनो और कार्यो को पूरा करने के लिए सेवाग्राम मे २३ एकर जमीन ली गई है जिसमे एक स्वदेशी शोध केंद्र की स्थापना होगी जो चार विषयों पर शोध
3) देश भर के किसानो के लिए स्वदेशी और जैविक खेती का प्रशिक्षण केंद्र और मॉडल फार्म,
4) पूरे देश के गाँव-गाँव में फैले बेरोजगारों के लिए स्वदेशी रोजगार प्रशिक्षण केंद्र , जहाँ प्रति महीने ५०० बच्चे रोजगार प्रशिक्षण प्राप्त करंगे,
5) स्वदेशी भारत की स्थापना के लिए स्वदेशी पाठ्याक्रुम पर आधारित (जिसकी रूपरेखा राजीव भाई ने तियार की थी) गुरुकुल की स्थापना
6) देश को स्वदेशी के आधार पर चलाने के लिए स्वदेशी के विचार पर आधारित नीतिओं पर शोध करना और देश के सामने उन नीतिओ को प्रस्तुत करना.
आप सबकी उपस्थिति अनिवार्य है
प्रदीप दीक्षित
स्वदेशी कुम्भ आयोजन समिति की तरफ से
Mail : pradeepdixit@rajivdixit.com
Website: www.rajivdixit.com
Blog: pradeepdixitsbp.blogspot.com
Facebook: www.facebook.com/pradeepdixitsbp
राजीव भाई के अधूरे सपनो को पूरा करने के लिए निर्देशिका हेतु अपना विवरण यहाँ दें :
जानकारी: सेवाग्राम आने के लिए वर्धा या सेवाग्राम स्टेशन तक ट्रेन आती है, आप सेवाग्राम से ७० किलोमीटर दूर नागपुर सेहर से भी सेवाग्राम आ सकते है

मंगलवार, 29 मई 2012

राजीव भाई के विचारों का प्रचार



साथियों, राजीव भाई ने अपने जीवनकाल में जो देश में जो मंच हमें तैयार करके दिया है, उस मंच का अधिक से अधिक प्रयोग हमें राष्ट्रहित में करना है I उनके व्याख्यानों ने करोड़ो लोगो को प्रेरित किया और उनमें से बहुत से साथियो का संपर्क राजीव भाई से था, परन्तु राजीव भाई के जाने के बाद ऐसे अनगिनत लोगो से न हम और न ही वो हमसे संपर्क कर पा रहे है I अन्य लक्ष्यों के साथ हमारा एक लक्ष्य यह भी है की इन सभी साथियो की राजीव भाई के सभी वर्तमान में हो रहे कार्यक्रमों से अवगत करवाया जायें और सेवाग्राम से उनका सीधा संपर्क जोड़ा जाये I 

 मेरा यह मानना है की अगर हम राजीव भाई की स्वदेशी चिकित्सा की सीडी देश के कोने-कोने में भेज पाएं तो इन सभी लोगो से संपर्क संभव है और यह कार्य आप सबके सहयोग के बिना संभव नहीं क्योंकि सभी लोग इन्टरनेट का प्रयोग नहीं करते और हम सीडी के आवरण में राजीव भाई से सम्बंधित कुछ जानकारीया भी भेजते हैं जो राजीव भाई के वर्तमान सभी कार्यक्रमों की जानकारियों को प्रेषित करने का बहुत बड़ा साधन है I इन्टरनेट पर राजीव भाई के समर्थको की निर्देशिका हेतु दिए गए इस प्रपत्र/फॉर्म (https://docs.google.com/spreadsheet/viewform?formkey=dDhnOEpGc1VKWVh2NmpqNmpxRlBxekE6MQ#gid=0) को बहुत अच्छी प्रतिक्रिया मिली है और आप लोगो के सहयोग से हमारे पास बहुत ही उत्तम और बड़ी संख्या में विवरण तैयार हो रहा है आप इस लिंक को ज्यादा से ज्यादा लोगो तक पंहुचाये और इस निर्देशिका को एक विशाल रूप देने में सहयोग करें I

इसके साथ मैं एक बात और कहना चाहूँगा की राजीव भाई की "स्वदेशी चिकित्सा" के व्याख्यान की MP3 सीडी अपने आप में पूरे भारत को एक साथ जोडने की क्षमता रखती है क्योंकि स्वस्थ नागरिक ही स्वस्थ भारत का निर्माण कर सकते है i सेवाग्राम, वर्धा में स्थित स्वदेशी भारत पीठं (न्यास) से हम पूरे देश भर में इस सीडी एवं साहित्य को वितरित कर रहे है I राजीव भाई के समर्थक लोग ज्यादा से ज्यादा संख्या में सीडी वितरण करवा रहे है I राजीव भाई के स्वदेशी विचार की पहली सीढ़ी स्वदेशी चिकित्सा से होकर जाती है इसीलिए आप सभी भाइयों से अनुरोध है की ज्यादा से ज्यादा लोगो तक "स्वदेशी चिकित्सा" की सीडी को पहुचाएं i इस सीडी में राजीव भाई द्वारा दिए गए चेन्नई में 2007 के आठ व्याख्यान है i

बहुत से भाई राजीव भाई की CD को फैला रहे है और इसके लिए मैं उन्हें अपनी शुभकामनाएं भेजता हूँ i परन्तु इसके लिए वो एक-एक CD कंप्यूटर से बना कर लोगो को दे रहे है जिसमे उनको CD को बनाने में और ज्यादा समय लगता है वही हमें लगता है की सेवाग्राम के संपर्क सूत्र उसमे हो तो उन देश के सभी भाइयो से संपर्क बनाने में आसानी होगी जो अन्यथा CD बनाने से संभव नहीं हो पायेगा, इसीलिए आपसे अनुरोध है की स्वयं CD बनाने के स्थान पर आप रु.8 के लागत मूल्य पर यह MP3 CD ले और आगे बाटें i मेरा यह मानना है इससे समय की बहुत बचत होगी और प्रचार का प्रभाव भी कई गुना ज्यादा पड़ेगा

सभी के लिए इस MP3 सीडी का मूल्य केवल रु. 8 है जो इसका वास्तविक लागत मूल्य है और आप तक पहुचने डाक का खर्चा अलग से होगा i
आप कम से कम 50 सीडी आर्डर कर सकते है i स्वदेशी चिकित्सा CD कन्नड़ और तेलुगू भाषा में भी उपलब्ध है
राजीव भाई से जुडे DVD , MP3, पुस्तकें आदि नीचे दिया गए तरीको से आर्डर कर सकते है:-

1) ऑनलाइन आर्डर फॉर्म : https://docs.google.com/spreadsheet/viewform?formkey=dFdEeXhlTnhrcGpDWFNBMExHZ1h0SGc6MQ#gid=0

2) SMS करें ORDER to 09873410520

3) ईमेल - order@rajivdixit.com

किसी भी प्रकार के सुझाव के लिए आप मुझसे संपर्क कर सकते हैं

मेरा ईमेल : pradeepdixit@rajivdixit.com

राजीव भाई के समर्थको की निर्देशिका के लिए प्रपत्र/फॉर्म का लिंक

https://docs.google.com/spreadsheet/viewform?formkey=dDhnOEpGc1VKWVh2NmpqNmpxRlBxekE6MQ#gid=0



- प्रदीप दीक्षित

(सेवाग्राम)

रविवार, 6 मई 2012

स्वदेशी के प्रति राजीव भाई की अगाध श्रद्धा और तड़प को शत-शत नमन

स्वदेशी के प्रति राजीव भाई की अगाध श्रद्धा और तड़प को शत-शत नमन
(संपूर्ण संस्मरण)


            29 नवम्बर 2010 की मनहूस शाम को करीब 7:30 बजे किसी ने फ़ोन करके बताया कि राजीव भाई कि तबियत ठीक नहीं है, उन्हें अस्पताल में भारती कराया गया है. वे उस समय छत्तीसगढ़ के प्रवास पर थे और उस दिन भिलाई में शाम तो भारत स्वाभिमान कि सभा को संबोधित करने वाले थे I जैसे ही सूचना मिली तो मैंने तुरंत राजीव भाई के नंबर पर संपर्क करने कि कोशिश कि तो दोनों नंबर बंद थे, संपर्क नहीं हो सका I हरिद्वार से छत्तीसगढ़ के साथियों का नंबर लेकर फ़ोन लगाया तो बात हुई तब यह सुनिश्चित हुआ कि वास्तव में राजीव भाई कि तबियत ठीक नहीं है और उन्हें अस्पताल में भारती किया गया है I मैंने तुरंत पुछा कि स्वामी जी को खबर की या नहीं तो उन्होने बताया की हाँ - स्वामी जी को सूचना कर दी है और वे खुद इस मामले में डॉक्टर से बात कर रहे है और यदि स्थिति ज्यादा ख़राब हुई तो दिल्ली ले जाने की व्यवस्था भी हो रही है I इसके बाद मैंने कई बार कोशिश की की एक बार राजीव भाई से बात हो जाये लेकिन किसी भी तरह मेरी बात राजीव भाई से हो जाये लेकिन किसी भी तरह मेरी उनसे बात न हो सकी I समय ख़राब न करके तुरंत गाडी से रायपुर के लिए निकल गया यह सोचकर कि यदि संभव हुआ तो सेवाग्राम ले आएंगे और यही इलाज करना लेंगे I 

        करीब 9:30 के आसपास नागपुर के आगे कहीं ढाबे पर ड्राईवर ने चाय पीने के लिए गाड़ी रोकी I तभी स्वामीजी का फ़ोन आया और उन्होंने जानकारी दी कि मैं स्वयं इस मामले को लगातार देख रहा हूं राजीव भाई दवाई लेने से मन कर रहे है I वे बार-बार मन कर रहे है कि मुझे अंग्रेजी दवा नहीं लेनी है मुझे तो आयुर्वेदिक या होम्योपैथी कि दवा दी जाये उसी से ठीक हो जाऊंगा I चिंता कि कोई बात नहीं है I फिर भी डॉक्टर को आवश्यक इलाज के लिए बोल दिया है और संभव हुआ तो उन्हें दिल्ली ले जाने कि तैयारी कर रहा हूं वहां भी डॉक्टरों से संपर्क चालू है I जैसे ही कुछ होगा तो तुरंत बताऊंगा I 

      इसके बाद ड्राईवर ने चाय पीकर दोबारा से गाड़ी चालू की और मैं भिलाई में फ़ोन पर संपर्क करने की कोशिश करता रहा I अनूप भाई से बात हुई तो उन्होंने बताया आप जल्दी से जल्दी आईये समय बहुत कम है तब उनसे मैंने कहा की दिल्ली ले जाने की बात हो रही है आप दिल्ली लेकर निकलिए तो उन्होंने कहा कि उनकी हालत ऐसी नहीं है कि दिल्ली ले जाया जा सके I आप तो जल्दी से जल्दी पहंच  जाईये I तब मुझे थोड़ा शक हुआ कि अभी तक मेरी बात नहीं हो पाई राजीव भाई से, चक्कर क्या है I राजीव भाई स्वामीजी से बात कर रहे हैं तो मुझसे क्यों नहीं कर पा रहे हैं या उनके आसपास के लोग मुझसे बात क्यों नहीं करवा रहे है I 

करीब 12:15 पर स्वामीजी का फिर से फ़ोन आया उन्होंने तुरंत गाडी रोकने के लिए कहा और फूट-फूटकर रोने लगे, लगातार 5-6 मिनट तक रोते रहे I मैं भी उनके साथ रोता रहा I मैं आवाक होकर सुनता रहा I शुरू में मेरी समझ में कुछ नहीं आया, जब थोड़ी सांस मिली तो स्वामीजी ने कहा कि अब कुछ नहीं बचा, राजीव भाई हमको छोड़ कर चले गए.... मैंने क्या-क्या नहीं सोचा था, सब कुछ ख़त्म हो गया, मेरे हाथ पैरों में ताक़त नहीं बची है I मैंने अपने आपको संभालते हुए स्वामी जी से एक ही प्रार्थना की कि स्वामी जी, राजीव भाई के सपने को अधूरा नहीं छोड़ना है, किसी भी कीमत पर पूरा करना है I भारत स्वाभिमान के रूप में उन्होंने जो सपना देखा है वह पूरा होना चाहिए आप किसी भी कीमत पर यह लड़ाई नहीं रुकने देना ,,,, फिर उन्होंने पुछा कि आगे क्या करना है तो मैं उनको कहा कि राजीव भाई वैधानिक रूप से भारत स्वाभिमान के राष्ट्रीय सचिव थे इसीलिए उनका अंतिम संस्कार भारत स्वाभिमान के मुख्या कार्यालय, हरिद्वार में ही होना चाहिए, आप तैयारी करवाइए मैं उन्हें लेकर आता हूँ I उसके बाद स्वामी जी का फ़ोन कट गया, फ़ोन पर बात करते-करते उनकी आवाज़ एकदम निढाल हो गयी थी I मैं भी सुन्न हो गया था कुछ भी समझ नहीं आ रहा था, क्या करू, शारीर और दिमाग दोनों को जैसे लकवा मार गया हो I काठ जैसा हो गया था I

      मैंने जब से होश संभाला था तब से सिर्फ राजीव भाई को सिर्फ भाई ही नहीं माँ-बाप मानकर उनके साथ और उनके सानिध्य में था I अब वो छोड़कर चले गए तो कैसे आगे बढ़ेंगे I उनकी हिम्मत से हम हिम्मत पते थे, उनके जोश से हमें जोश मिलता था, उनकी निडरता से हमें निडरता मिलती थी, जब वो दहाड़ लगाकर विदेशी कंपनियों के खिलाफ बोलते थे तब हमारे अन्दर होंसला पैदा होता था I अब कहाँ से यह सब मिलेगा I पूरे रास्ते सभी को सूचना करना रहा कि जिनको भी संभव हो तुरंत हरिद्वार पहुंचे I जो-जो राजीव भाई को अपना गुरु मानते थे, अपना सखा मानते थे, अपना भाई मानते थे वे सब हरिद्वार पहुंचे I यह सन्देश सभी को पहुचने के लिए बोलता रहा I

    सुबह करीब 4 बजे भिलाई पंहुचा, अनूप भाई के साथ उस अस्पताल में पंहुचा जहाँ राजीव भाई चिरनिद्रा में लेटे थे I जब ICU में पहुंचा तो वे बिस्तर पर लेटे हुए थे I  वेंटीलेटर चल रहा था I कृत्रिम सांस चालू थी I असली सांस बंद थी I आँखें आधी खुली हुई थी I जैसे महात्मा बुद्ध कि लेटी हुई प्रतिमा कि आँखें खुली हुई है , ठीक वैसी ही समाधी जैसी स्थिति थी I पता नहीं किसका इंतज़ार करते हुए सांस निकली थी या पता नहीं क्या सोचते-सोचते सांस निकली, चेहरा एकदम शांत था I कोई तकलीफ या परेशानी जैसा कुछ नहीं लगा I चेहरे पर चमक बरक़रार थी I डॉक्टर ने आकर कुछ बताया पता नहीं क्या कहा I बस इतना ही समझ आया कि राजीव भाई नहीं रहे, केवल वेंटीलेटर चालू है I वेंटीलेटर निकालने के लिए कहा और उनको शान्ति से सुला देने के लिए कहा, उनकी खुली हुई आँखें बंद की और चरणों में प्रणाम किया, सिर्फ एक ही बात मन से निकली की इतनी जल्दी क्यों चले गए I अभी तो बहुत काम करना था I बहुत लड़ना था I अपने सपनो का स्वदेशी भारत बनाना था I यह सच है की अपनी अंतिम सांस तक राजीव भाई अपनी कर्मभूमि में डटें रहे I देश को स्वदेशी बनाने के अभियान को जन-जन तक पहुचाने में लगे रहे जैसे एक सैनिक लड़ाई के अंतिम दौर तक अपनी स्थिति नहीं छोड़ता चाहे उसके प्राण ही क्यों न चले जाये, वैसे ही राजीव भाई अंतिम समय तक अपनी समरभूमि में ही थे I

    उस समय लगभग  5 बज रहे थे I उनका शारीर सुबह 9-10 बजे तक फ्रीज़र में रखा गया I उस समय स्वामी जी का शिविर शिकोहाबाद में चल रहा था वहीँ से उन्होंने राष्ट्र को राजीव भाई के जाने का सन्देश दिया, पूरे देश में राजीव भाई को जानने वाले और चाहने वालों के लिए यह शोकाकुल सन्देश सदमा पहुचाने वाला था I उनके अंतिम संस्कार की खबर दी गयी की वह हरिद्वार में होगा I दूर-दूर से लोग हरिद्वार पहुचने के लिए निकल पड़े I 

      सुबह 9 बजे अस्पताल के नीचे वाले हिस्से में ही उन्हें अंतिम दर्शन के लिए रखा गया, भिलाई शहर के हजारो स्वदेशी प्रेमी भाइयो-बहनों ने उनके दर्शन किये I लोगो के आंसू रुक नहीं रहे थे I मेरे तो आंसू ही सूख गए थे I आँखें पत्थर हो गयी थी, करीब 11 बजे उनको रायपुर लेकर गये, वहां भी उनको अंतिम दर्शन के लिए रखा गया I छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमण सिंह जी अपनी श्रद्धांजलि देने आये और उसके बाद उन्हें एअरपोर्ट लेकर आये जहाँ हजारों भारत स्वाभिमान के कार्यकर्ता उनको अंतिम विदाई देने के लिए खड़े थे I जैसे ही राजीव भाई वहां पहुंचे वैसे ही उनके दर्शन के लिए लोगो में अफरातफरी थी I सब अपने प्रिय राजीव भाई को अंतिम बार एक नज़र देख लेना चाहते थे I फिर तो दोबारा मिलना नहीं होगा सिर्फ यादें रह जाएँगी I वहां अंतिम दर्शन के बाद एक छोटे हवाई जहाज़ से उनको लेकर हम हरिद्वार के लिए निकल पड़े I 

            रायपुर से हरिद्वार का सफ़र कोई साढ़े तीन घंटे का था I हमारा हवाई जहाज़ उड़ा I हवाई जहाज़ में कुल चार सीटें थी I एक पर मैं था और दो पर छत्तीसगढ़ के दो भाई I राजीव भाई मेरे बगल में लेटे हुए थे I एक 8 फुट के बक्से में उनका शारीर बंद था I सफ़ेद-सफ़ेद बादलों के बीच में जब हम जा रहे थे तब बार-बार ऐसा लग रहा था कि राजीव भाई कि आत्मा भी यहीं कहीं बादलों के बीच में होगी, वह हमारे साथ ही चल रही होगी I वह तीन घंटे मेरे जीवन में नया मोड़ लेकर आये I सबसे पहले तो बार-बार यही बात मन में आ रही थी कि अब क्या करें? कैसे करें? इस लड़ाई को कैसे आगे बढ़ाये , कैसे राजीव भाई के सपनो को पूरा करें I राजीव भाई के अन्दर भारत को विदेशी संस्कृति और शोषण से मुक्त कराने की और भारत को स्वदेशी, स्वावलंबी और स्वाभिमानी बनाने की जो तड़प थी, उसको कैसे बरक़रार रखा जाये I उनकी यह तड़प सभी भारतीयों में कैसे प्रदीप्त की जायें I

      राजीव भाई का पूरा जीवन आँखों के सामने घूम गया I कैसे २० साल का एक नौजवान, जो इलाहाबाद में इंजिनियर बनने आया, घरवालो नें IAS, PCS, के ख्वाब देखकर इलाहाबाद भेजा, देश की ग़रीबी, भुखमरी और शोषण व अन्याय की लड़ाई में शामिल हो गया, शायद राजीव भाई मं क्रांतिकारियों का ही खून था जो उन्हें इस क्षेत्र में लेकर आया I उनके जीवन के सभी उतार-चढाव आँखों के सामने घूम गए और अंत मं तमाम विरोध के बावजूद भारत स्वाभिमान के रूप में देश प्रेम को परवान चादनी का समय भी देखा I लेकिन अचानक से यह झटका लगा की सबकुछ शीशे की तरह टूटा I उनके चरणों पर हाथ रखकर संकल्प लिया कि मैं जीवन भर राजीव भाई के सपनो को पूरा करने का वचन निभाऊंगा, जिस तरह राजीव भाई अंतिम सांस तक देश को स्वदेशी बनाने कि लड़ाई लड़ते रहे उसी तरह मैं भी उनकी इस परंपरा को आगे बढ़ते ही अपना पूरा जीवन इसी लड़ाई के लिए समर्पित कर दूंगा I मन में यह संकल्प लिए और मन को मज़बूत बनाया आंसुओं को पोंछा और कठोर हृदय करके इस इस लड़ाई को अपने कंधो पर ले लिया I जब तक भारत को पूर्ण स्वदेशी, पूर्ण स्वावलंबी और स्वाभिमानी नहीं बना लेंगे तब तक चैन की सांस नहीं लेनी है, बहुत सारे लोगो ने कहा की राजीव भाई दोबारा आएंगे  इस अधूरी लड़ाई को पूरा करने के लिए I यदि ऐसा होता भी है तो भी जब तक वे आयें तब तक इसको जिंदा रखना और चलाये रखने की ज़िम्मेदारी अपने कंधो पर उठा ली है I स्वामी जी का आशीर्वाद है ही और राजीव भाई के मानने वाले और चाहने वालो का आशीर्वाद भी रहेगा ही I 

     करीब 5-6 बजे के आसपास हरिद्वार आ गया, वह आचार्य बालकृष्ण जी राजीव भाई को लेने आये थे  I राजीव भाई को लेकर सीधे भारत स्वाभिमान के कार्यालय में गए I वह राजीव भाई के अंतिम दर्शन करने वालो का तांता लगना शुरू हो गया I राजीव भाई अमर रहे के नारों के साथ उनका पार्थिव शारीर श्रद्धालयम के उसी विशाल हॉल में रखा गया जहाँ उन्होंने कई ऐतिहासिक व्याख्यान दिए थे I सामने  वही मंच था, जहाँ राजीव भाई नें स्वामीजी के सानिध्य में देश के नौजवानों को ललकारा था और उनकी आवाज़ पर सैंकड़ो जीवनदानी अपना सबकुछ छोड़कर भारत स्वाभिमान की इस लड़ाई में कूदे थे I उनमे  से काफी जीवनदानी भाई भी वहां थे I  वे सभी हतप्रभ थे, उन्हें समझ में नहीं आ रहा था की क्या करें? राजीव भाई को बर्फ की सिल्लियो पर लिटाया गया, उनको गर्मी बहुत लगती थी इसीलिए शायद अपने अंतिम समय में वे बर्फ पर लेटे थे I तब तक माँ-पिताजी भी आ गए I उनको अभी तक नहीं बताया गया था की राजीव भाई नहीं रहे I हरिद्वार में हॉल में प्रवेश से पहले ही उन्हें बताया गया था की राजीव भाई नहीं रहे I हॉल में प्रवेश से पहले ही पिताजी ने विलाप करते हुए पुछा की भैया को कहा छोड़ कर आये, मैं क्या जवाब देता, मेरे पास कोई उत्तर नहीं था, एक बाप अपने बेटे के अंतिम दर्शन के लिए आया था, वह बेटा जिसने देश सेवा का व्रत लेकर भारत माँ को विदेशी कंपनियों से मुक्त करने और खुशहाल बनाने की लड़ाई छेड़ी थी, उसके अंतिम दर्शन के लिए आये थे I माँ बार-बार राजीव भाई के चेहरे को प्यार से छू-छूकर बोल रही थी की आज तो तेरा जन्मदिन था I एक बार तो उठ जा लेकिन राजीव भाई तो शान्ति से सो रहे थे I स्वामीजी ने सभी को ढान्ढस बंधाया और कहा कि हम सब आपके बेटे है I आप तो हज़ार बेटो वाली माँ हो I दूर-दूर से सभी साथियो का आना जारी था I पुराने-पुराने साथी आ रहे थे अंतिम दर्शन के लिए I रात भर यह सब चलता रहा I     

     सुबह 8 बजे कनखल के घाट पर अंतिम संस्कार के लिए ले जाने कि तैयारी शुरू हो गयी I अंतिम संस्कार के लिए ठठरी  पर लिटाने से पूर्व राजीव भाई को स्नान कराया गया I सभी प्रेमी साथियो ने अपने हाथो से निहलाया, घी चन्दन लगाया और खादी के कपडे में लपेट कर उन्हें
ठठरी पर लिटाया गया, उसके बात वन्दे मातरम के नारों के साथ राजीव भाई को स्वर्ग रथ में बिठाया गया I 'वन्दे मातरम' और 'राजीव भाई अमर रहे' के नारों के साथ राजीव भाई को कनखल  आश्रम में अंतिम दर्शन के लिए रखा गया I स्वामीजी की माताजी के आंसू रुक ही नहीं रहे थे I वह पर हरिद्वार के हजारों लोगो ने राजीव भाई के दर्शन किये I वह से घाट तक राजीव भाई को कंधे पर ले जाया गया I कनखल घाट पर उनकी चिता सजाई गयी I मैंने स्वामी जी से आग्रह किया की स्वामी जी आप राजीव भाई को वर्धा से गंडा बांधकर लाये थे और अपने शिष्य के रूप में स्वीकार किया था इसीलिए आप अपनी सन्यास परंपरा को छोड़कर मुखाग्नि अवश्य दें I स्वामी जी ने, आचार्य जी ने और मैंने तीनो ने मिलर मुखाग्नि दी I सभी उपस्थित कार्यकर्ताओ ने समाधी डाली और राजीव भाई पंचतत्व में विलीन हो गए I 
  
      उनका शारीर अब हमारे साथ नहीं है लेकिन उनका विचार उनके संकल्प हमारे साथ है उन्हें पूरा करना है I गंगा में उनकी अस्थियो को इस संकल्प के साथ प्रवाहित किया कि राजीव भाई के विचार को पूरे देश में फैलाना है I गंगा जहाँ-जहाँ जाती है वहां-वहां राजीव भाई के विचार फैलेंगे और उन्ही किनारों पर फिर से वे पैदा होंगे I राजीव भाई की जन्मभूमि गंगा किनारे ही रही और वे फिर से उन्ही किनारों पर पैदा होंगे I 

    स्वदेशी के प्रति राजीव भाई की अगाध श्रद्धा और तड़प को शत:शत नमन, इसी तड़प और श्रद्धा को लेकर हम सब इस लड़ाई को जारी रखेंगे, ............

प्रदीप दीक्षित
(सेवाग्राम, वर्धा)
      

संस्मरण आधार : राजीव भाई पुस्तक संग्रह (१,२,३....)

शेष भाग : स्वदेशी के प्रति राजीव भाई की अगाध श्रद्धा और तड़प को शत-शत नमन (2)


करीब 12:15 पर स्वामीजी का फिर से फ़ोन आया उन्होंने तुरंत गाडी रोकने के लिए कहा और फूट-फूटकर रोने लगे, लगातार 5-6 मिनट तक रोते रहे I मैं भी उनके साथ रोता रहा I मैं आवाक होकर सुनता रहा I शुरू में मेरी समझ में कुछ नहीं आया, जब थोड़ी सांस मिली तो स्वामीजी ने कहा कि अब कुछ नहीं बचा, राजीव भाई हमको छोड़ कर चले गए.... मैंने क्या-क्या नहीं सोचा था, सब कुछ ख़त्म हो गया, मेरे हाथ पैरों में ताक़त नहीं बची है I मैंने अपने आपको संभालते हुए स्वामी जी से एक ही प्रार्थना की कि स्वामी जी, राजीव भाई के सपने को अधूरा नहीं छोड़ना है, किसी भी कीमत पर पूरा करना है I भारत स्वाभिमान के रूप में उन्होंने जो सपना देखा है वह पूरा होना चाहिए आप किसी भी कीमत पर यह लड़ाई नहीं रुकने देना ,,,, फिर उन्होंने पुछा कि आगे क्या करना है तो मैं उनको कहा कि राजीव भाई वैधानिक रूप से भारत स्वाभिमान के राष्ट्रीय सचिव थे इसीलिए उनका अंतिम संस्कार भारत स्वाभिमान के मुख्या कार्यालय, हरिद्वार में ही होना चाहिए, आप तैयारी करवाइए मैं उन्हें लेकर आता हूँ I उसके बाद स्वामी जी का फ़ोन कट गया, फ़ोन पर बात करते-करते उनकी आवाज़ एकदम निढाल हो गयी थी I मैं भी सुन्न हो गया था कुछ भी समझ नहीं आ रहा था, क्या करू, शारीर और दिमाग दोनों को जैसे लकवा मार गया हो I काठ जैसा हो गया था I

      मैंने जब से होश संभाला था तब से सिर्फ राजीव भाई को सिर्फ भाई ही नहीं माँ-बाप मानकर उनके साथ और उनके सानिध्य में था I अब वो छोड़कर चले गए तो कैसे आगे बढ़ेंगे I उनकी हिम्मत से हम हिम्मत पते थे, उनके जोश से हमें जोश मिलता था, उनकी निडरता से हमें निडरता मिलती थी, जब वो दहाड़ लगाकर विदेशी कंपनियों के खिलाफ बोलते थे तब हमारे अन्दर होंसला पैदा होता था I अब कहाँ से यह सब मिलेगा I पूरे रास्ते सभी को सूचना करना रहा कि जिनको भी संभव हो तुरंत हरिद्वार पहुंचे I जो-जो राजीव भाई को अपना गुरु मानते थे, अपना सखा मानते थे, अपना भाई मानते थे वे सब हरिद्वार पहुंचे I यह सन्देश सभी को पहुचने के लिए बोलता रहा I

    सुबह करीब 4 बजे भिलाई पंहुचा, अनूप भाई के साथ उस अस्पताल में पंहुचा जहाँ राजीव भाई चिरनिद्रा में लेटे थे I जब ICU में पहुंचा तो वे बिस्तर पर लेटे हुए थे I  वेंटीलेटर चल रहा था I कृत्रिम सांस चालू थी I असली सांस बंद थी I आँखें आधी खुली हुई थी I जैसे महात्मा बुद्ध कि लेटी हुई प्रतिमा कि आँखें खुली हुई है , ठीक वैसी ही समाधी जैसी स्थिति थी I पता नहीं किसका इंतज़ार करते हुए सांस निकली थी या पता नहीं क्या सोचते-सोचते सांस निकली, चेहरा एकदम शांत था I कोई तकलीफ या परेशानी जैसा कुछ नहीं लगा I चेहरे पर चमक बरक़रार थी I डॉक्टर ने आकर कुछ बताया पता नहीं क्या कहा I बस इतना ही समझ आया कि राजीव भाई नहीं रहे, केवल वेंटीलेटर चालू है I वेंटीलेटर निकालने के लिए कहा और उनको शान्ति से सुला देने के लिए कहा, उनकी खुली हुई आँखें बंद की और चरणों में प्रणाम किया, सिर्फ एक ही बात मन से निकली की इतनी जल्दी क्यों चले गए I अभी तो बहुत काम करना था I बहुत लड़ना था I अपने सपनो का स्वदेशी भारत बनाना था I यह सच है की अपनी अंतिम सांस तक राजीव भाई अपनी कर्मभूमि में डटें रहे I देश को स्वदेशी बनाने के अभियान को जन-जन तक पहुचाने में लगे रहे जैसे एक सैनिक लड़ाई के अंतिम दौर तक अपनी स्थिति नहीं छोड़ता चाहे उसके प्राण ही क्यों न चले जाये, वैसे ही राजीव भाई अंतिम समय तक अपनी समरभूमि में ही थे I

    उस समय लगभग  5 बज रहे थे I उनका शारीर सुबह 9-10 बजे तक फ्रीज़र में रखा गया I उस समय स्वामी जी का शिविर शिकोहाबाद में चल रहा था वहीँ से उन्होंने राष्ट्र को राजीव भाई के जाने का सन्देश दिया, पूरे देश में राजीव भाई को जानने वाले और चाहने वालों के लिए यह शोकाकुल सन्देश सदमा पहुचाने वाला था I उनके अंतिम संस्कार की खबर दी गयी की वह हरिद्वार में होगा I दूर-दूर से लोग हरिद्वार पहुचने के लिए निकल पड़े I 

      सुबह 9 बजे अस्पताल के नीचे वाले हिस्से में ही उन्हें अंतिम दर्शन के लिए रखा गया, भिलाई शहर के हजारो स्वदेशी प्रेमी भाइयो-बहनों ने उनके दर्शन किये I लोगो के आंसू रुक नहीं रहे थे I मेरे तो आंसू ही सूख गए थे I आँखें पत्थर हो गयी थी, करीब 11 बजे उनको रायपुर लेकर गये, वहां भी उनको अंतिम दर्शन के लिए रखा गया I छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमण सिंह जी अपनी श्रद्धांजलि देने आये और उसके बाद उन्हें एअरपोर्ट लेकर आये जहाँ हजारों भारत स्वाभिमान के कार्यकर्ता उनको अंतिम विदाई देने के लिए खड़े थे I जैसे ही राजीव भाई वहां पहुंचे वैसे ही उनके दर्शन के लिए लोगो में अफरातफरी थी I सब अपने प्रिय राजीव भाई को अंतिम बार एक नज़र देख लेना चाहते थे I फिर तो दोबारा मिलना नहीं होगा सिर्फ यादें रह जाएँगी I वहां अंतिम दर्शन के बाद एक छोटे हवाई जहाज़ से उनको लेकर हम हरिद्वार के लिए निकल पड़े I 

(आगे जारी रहेगा....)

भाइयो : क्षमा चाहूँगा की समय कम होने के कारण इतना ही लिख पा रहा हूँ ...... बाकि का हिस्सा शाम तक पूरा होने की आशा है.....

प्रदीप दीक्षित 
सेवाग्राम, वर्धा  

शनिवार, 5 मई 2012

स्वदेशी के प्रति राजीव भाई की अगाध श्रद्धा और तड़प को शत-शत नमन (1)

स्वदेशी के प्रति राजीव भाई की अगाध श्रद्धा और तड़प को शत-शत नमन 

            29 नवम्बर 2010 की मनहूस शाम को करीब 7:30 बजे किसी ने फ़ोन करके बताया कि राजीव भाई कि तबियत ठीक नहीं है, उन्हें अस्पताल में भारती कराया गया है. वे उस समय छत्तीसगढ़ के प्रवास पर थे और उस दिन भिलाई में शाम तो भारत स्वाभिमान कि सभा को संबोधित करने वाले थे I जैसे ही सूचना मिली तो मैंने तुरंत राजीव भाई के नंबर पर संपर्क करने कि कोशिश कि तो दोनों नंबर बंद थे, संपर्क नहीं हो सका I हरिद्वार से छत्तीसगढ़ के साथियों का नंबर लेकर फ़ोन लगाया तो बात हुई तब यह सुनिश्चित हुआ कि वास्तव में राजीव भाई कि तबियत ठीक नहीं है और उन्हें अस्पताल में भारती किया गया है I मैंने तुरंत पुछा कि स्वामी जी को खबर की या नहीं तो उन्होने बताया की हाँ - स्वामी जी को सूचना कर दी है और वे खुद इस मामले में डॉक्टर से बात कर रहे है और यदि स्थिति ज्यादा ख़राब हुई तो दिल्ली ले जाने की व्यवस्था भी हो रही है I इसके बाद मैंने कई बार कोशिश की की एक बार राजीव भाई से बात हो जाये लेकिन किसी भी तरह मेरी बात राजीव भाई से हो जाये लेकिन किसी भी तरह मेरी उनसे बात न हो सकी I समय ख़राब न करके तुरंत गाडी से रायपुर के लिए निकल गया यह सोचकर कि यदि संभव हुआ तो सेवाग्राम ले आएंगे और यही इलाज करना लेंगे I 

        करीब 9:30 के आसपास नागपुर के आगे कहीं ढाबे पर ड्राईवर ने चाय पीने के लिए गाड़ी रोकी I तभी स्वामीजी का फ़ोन आया और उन्होंने जानकारी दी कि मैं स्वयं इस मामले को लगातार देख रहा हूं राजीव भाई दवाई लेने से मन कर रहे है I वे बार-बार मन कर रहे है कि मुझे अंग्रेजी दवा नहीं लेनी है मुझे तो आयुर्वेदिक या होम्योपैथी कि दवा दी जाये उसी से ठीक हो जाऊंगा I चिंता कि कोई बात नहीं है I फिर भी डॉक्टर को आवश्यक इलाज के लिए बोल दिया है और संभव हुआ तो उन्हें दिल्ली ले जाने कि तैयारी कर रहा हूं वहां भी डॉक्टरों से संपर्क चालू है I जैसे ही कुछ होगा तो तुरंत बताऊंगा I 

      इसके बाद ड्राईवर ने चाय पीकर दोबारा से गाड़ी चालू की और मैं भिलाई में फ़ोन पर संपर्क करने की कोशिश करता रहा I अनूप भाई से बात हुई तो उन्होंने बताया आप जल्दी से जल्दी आईये समय बहुत कम है तब उनसे मैंने कहा की दिल्ली ले जाने की बात हो रही है आप दिल्ली लेकर निकलिए तो उन्होंने कहा कि उनकी हालत ऐसी नहीं है कि दिल्ली ले जाया जा सके I आप तो जल्दी से जल्दी पहंच  जाईये I तब मुझे थोड़ा शक हुआ कि अभी तक मेरी बात नहीं हो पाई राजीव भाई से, चक्कर क्या है I राजीव भाई स्वामीजी से बात कर रहे हैं तो मुझसे क्यों नहीं कर पा रहे हैं या उनके आसपास के लोग मुझसे बात क्यों नहीं करवा रहे है I 

(जारी रखा जायेगा .....)